JNU New School: जवाहरलाल नेहरू यूनिवर्सिटी में एक नया विभाग शुरू किया हैं। इस विभाग की सबसे खास बात ये हैं कि इस स्कूल में सभी राज्यों की झलक दिखाई देगी। यह खास भारतीय भाषाओं के लिए होगा। जेएनयू एडमिनिस्ट्रेशन का कहना है कि देश की सांस्कृतिक विविधता की तस्वीर पेश करने के लिए अगले साल से भारतीय भाषाओं का एक नया स्कूल Jawaharlal Nehru University में खुलने जा रहा हैं।

जेएनयू की वीसी शांतिश्री डी पंडित ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में इसके बारे में बताया हैं कि JNU School of Indian Languages में देश के विभिन्न राज्यों के केंद्र होगें। इस स्कूल में साहित्य, संस्कृति और इतिहास पढ़ाया जाएगा। कई राज्यो ने इसके लिए रूचि दिखाना भी शउरू कर दिया हैं। जिसमें तमिलनाडु पहले ही अपने केंद्र के लिए 10 करोड़ रुपये दे दिया हैं। जेएनयू ने सोमवार को तमिल विरासत सप्ताह और भारतीय भाषा सप्ताह की शुरूआत की हैं।

जेएनयू द्वारा भारतीय भाषाओं के लिए शुरू किए जा रहे इस नए स्कूल में विभिन्न राज्य सरकारें विश्वविद्यालय को पीठ स्थापित करने के लिए कोष दे रहा हैं। तमिलनाडु के अलावा चार अन्य राज्य- ओडिशा, कर्नाटक, महाराष्ट्र और असम भी 10-10 करोड़ रुपये देने पर सहमति दी हैं। इसके अलावा हम अन्य राज्य से इसके बारे में संपर्क साधने की कोशिश कर रहे हैं।

उन्होने आगे कहा कि 'हम भारत की नंबर 1 यूनिवर्सिटी हैं। इन केंद्रों में सर्टिफिकेट कोर्स, मास्टर डिग्री कोर्स ऑफर किए जाएंगे. यह कार्यक्रम देश भर में भारतीय भाषाओं के इतिहास और विरासत का जश्न मनाने के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दृष्टिकोण और मिशन को लागू करने के लिए आयोजित किया जा रहा हैं।