World Population : संयुक्‍त राष्‍ट्र की हालिया रिपोर्ट में कहा गया हैं कि दुनिया की आबादी बढ़कर 8 अरब पहुँच गई हैं। रिपोर्ट के अनुसार 2030 तब जनसंख्‍या का आंकड़ा बढ़कर 850 करोड़ पहुंच जाएगा और 2050 तक 970 करोड़ हो जाएगा। दुनिया की आबादी इस समय बढ़कर 8 अरब पहुंच गई, इसका पता कैसे लगाया हैं। संयुक्‍त राष्‍ट्र की संस्‍था दुनिया की आबादी के बारे में बताती हैं। इस संस्था का पूरा नाम यूनाइटेड नेशंस पॉपुलेशन फंड हैं। दुनिया की आबादी पिछले 12 सालों में 7 से 8 अरब के करीब पहुँची हैं।

जानिए संस्था किस आधार पर जनसंख्या के आकड़े जारी करती हैं-

संयुक्‍त राष्‍ट्र की संस्‍था यूनाइटेड नेशंस पॉपुलेशन फंड जनसंख्‍या का आंकड़ा जारी करने के लिए दुनिया भर के देशो के आकड़े को जुटाती हैं। आंकड़े के जरिए ही अनुमानित रिपोर्ट जारी करती है। संस्‍था आबादी का हिसाब-किताब करने के लिए तीन बातों पर ध्यान देती हैं। जन्‍म दर, मृत्‍यु दर और माइग्रेशन यानी किसी एक देश को छोड़कर दूसरे देश में पहुंचने वाले लोगो तथा जन्म दर या मृत्यु दर बढ़ी हैं या नहीं या पहले से कम हुई हैं। इस आधार पर जनसंख्या वृद्धि का आकड़ा जारी किया जाता हैं।

जनसंख्या बढ़ने के पीछे का कारण-

रिपोर्ट की माने तो 1950 में एक महिला औसतन 5 बच्‍चों को जन्‍म देती थी। तो वहीं 2022 आंकड़ा कहता है कि यह दर घटकर 2.3 हो गई हैं। जन्‍मदर भले ही कम ही कम हो गई हैं। लेकिन लोगो के जीने की उम्र में बढ़ोत्तरी हुई हैं। बता दे कि जीवन प्रत्‍याशा यानी जीने की दर बढ़ गई है। फोर्ब्‍स की रिपोर्ट कहती है, एक इंसान औसतन 78.8 साल तक जीता हैं। जो कि पिछले 200 सालो में सबसे ज्यादा जीने की दर में बढ़ोत्तरी आयी हैं।

आबादी बढ़ने की वजह माइग्रेशन भी हैं-

बता दे कि अध‍िक आय वाले देशों में आबादी बढ़ने की एक वजह माइग्रेशन भी हैं। रिपोर्ट के अनुसार, 1980 से 2000 के बीच 10.4 करोड़ तक जनसंख्‍या बढ़ने की वजह माइग्रेशन को बताया गया था। तो वहीं, पिछले 20 सालों में इन देशों में माइग्रेशन के कारण आबादी 8 करोड़ तक बढ़ चुकी हैं।